Magh Mas Snan (Holy Bath)

Sat, 23 Jan 2016 to Mon, 22 Feb 2016


पद्मपुराणके उत्तरखण्डमें माघमासके माहात्म्यका वर्णन करते हुए कहा गया है कि व्रत, दान और तपस्यासे भी भगवान्‌ श्रीहरिको उतनी प्रसन्नता नहीं होती, जितनी कि माघ महीनेमें स्न्नानमात्रसे होती है । इसलिये स्वर्गलाभ, सभी पापोंसे मुक्ति और भगवान्‌ वासुदेवकी प्रीति प्राप्त करने के लिये प्रत्येक मनुष्यको माघस्न्नान करना चाहिये।

जिन मनुष्यों को चिरकालतक स्वर्गलोकमें रहनेकी इच्छा हो, उन्हें माघमासमें सूर्यके मकरराशिमें स्थित होनेपर अवश्य स्न्नान करना चाहिये।

माघमासकी ऐसी विशेषता है कि इसमें जहाँ-कहीं भी जल हो, वह गंगाजल के समान होता है, फिर भी प्रयाग, काशी, नैमिषारण्य, कुरूक्षेत्र, हरिद्वार तथा अन्य पवित्र तीर्थों और नदियोंमें स्न्नानका बडा महत्व है।

Magh Mahina Major Snan Date


* Mauni Amavasya snan – Mon, 8 February 2016

* Basant Panchami snan – Fri, 12 February 2016

* Maghi Poornima snan – Mon, 22 February 2016


जो माघमासमें ब्राह्मणोंको तिल दान करता है, वह समस्त जन्तुओंसे भरे हुए नरक का दर्शन नहीं करता। (महा० अनु० ६६ । ८)

इस माघमासमें पूर्णिमाको जो व्यक्ति ब्रह्मवैवर्तपुराणका दान करता है, उसे ब्रह्मलोककी प्राप्ति होती है । (मत्स्यपुराण ५३ । ३५)



Uttarayana and Dakshinayana 


The smallest Unit of time is 11 nimesha. Fifteen nimeshas make one kashtha. thirty kashthas are one kala and thirty kalas constitute one muhurta. There are thirty muhurtas in a span of day and night (ahoratra). Thirty such ahoratras make up a month. There are two pakshas (fornight) in every month. Six months constitute an ayana and two ayanas a year. There are thus twelve months in every year. The names of the two ayanas are Uttarayana and Dakshinayana.
While humans pass through uttarayana, the gods pass through only one day. Similarly. when humans pass through dakshinayana, the gods pass through merely one night. One year for humans is equivalent to a time span of one day and one night for the gods.

  Uttarayan 2016: starting Friday, 15th Januaruy 2016
Twelve thousand years of the gods make up one mahayuga. This is subdivided into four yugas (eras). The names of these eras are Satya yuga or Krita yuga, Treta yuga, Dvapara yuga and Kali yuga. Satya yuga has four thousand years, treta yuga three thousand, dvapara yuga two thousand and kait yuga one thousand. This adds up to ten thousand years. But there are also periods that join two yugas: (sandhyamsha).

Satya yuga has a sandhyamsha of four hundred years, treta yuga of three hundred, dvapara yuga of two hundred and kali yuga of one hundred. There will therefore be seven hundred additional years between satya yuga and treta yuga, five hundred between treta yuga and dvapara yuga, three hundred between dvapara yuga and kali yuga and five hundred between kali yuga and the next satya yuga. These are two thousand additional years, and when added up to the earlier figure of ten thousand, make up twelve thousand years.

There are a little over seventy-one manvantaras (eras) in each mahayuga. Each manvantara is a time period that is ruled over by a Manu. The first Manu in the present kalpa (cycle) was Svayambhuva Manu and there were several other Manus after him. Each kalpa in fact passes during one of Brahma’s days and there are fourteen manvantaras in a kalpa. Stated differently, there are one thousand mahayugas in every kalpa.

Three hundred and sixty kalpas constitute one of Brahma's years. One hundred times this time period is known as a parardha. At the end of this period. the whole universe is destroyed and Brahma, Vishnu and Shiva are also destroyed. At the end of the destruction, creation starts afresh and this creation is known as sarga.

There is a smaller process of destruction that takes place at the end of every kalpa. Brahma, Vishnu and Shiva are not destroyed, but everything else is. The creation that comes at the end of this minor destruction is known as pratisarga.

The present kalpa is known as varaha kalpa. The one that preceded it was known as padma kalpa.

-Excerpts from Kurma Purana

Makar Sankranti - Uttarayan Parv 2016

The Sanskrit term “Shankramana” means “to begin to move”. The day on which the sun begins to move northwards (Uttarayana) is called Makara Shankranti (मकर संक्रान्ति).

Among the Tamilians in South India this festival is called the Pongal.

To many people, especially the Tamilians, Makara Shankranti ushers in the New Year. The corn that is newly-harvested is cooked for the first time on that day. Joyous festivities mark the celebration in every home.

Makar Sankranti is on Friday, 15th Jan 2016

(Maagh Sankranti/Surya in Makar 25:35+, 14 Jan 2016)

Snan (HolyBath) during and after Sunrise (15th Jan 2016)

Snan, Daan & Parv  on Fri, 15th Jan 2016 (Until 12:30 hrs, 15 Jan)

Mahapunya Kal : 07:19 hrs to 09:03 hrs (15th Jan)

धर्म-सिंधु के अनुसार-मकर संक्रांति का पुण्य काल संक्रांति समय से 16 घटी पहले और 40 घटी बाद तक माना गया है। मुहूर्त चिंतामणि ने पूर्व और पश्चात् की 16 घटियों को ही पुण्य काल माना है। यदि संक्रांति अर्धरात्रि के पूर्व हो तो दिन का उत्तरार्द्ध पुण्य काल होता है। अर्ध रात्रि के पश्चात संक्रांति हो तो दूसरे दिन का पूर्वार्द्ध पुण्य काल होता है। यदि संक्रांति अर्द्ध रात्रि को हो तो दोनों दिन पुण्य काल होता है।

मकर संक्रांति के दिन पूर्वजों को तर्पण और तीर्थ स्नान का अपना विशेष महत्व है। इससे देव और पितृ सभी संतुष्ट रहते हैं। सूर्य पूजा से और दान से सूर्य देव की रश्मियों का शुभ प्रभाव मिलता है और अशुभ प्रभाव नष्ट होता है। इस दिन स्नान करते समय स्नान के जल में तिल, आंवला, गंगा जल डालकर स्नान करने से शुभ फल प्राप्त होता है। इस दिन विशेषतः तिल और गुड़ का दान किया जाता है। इसके अलावा खिचड़ी, तेल से बने भोज्य पदार्थ भी किसी गरीब ब्राह्मण को खिलाना चाहिए। छाता, कंबल, जूता, चप्पल, वस्त्र आदि का दान भी किसी असहाय या जरूरत मंद व्यक्ति को करना चाहिए। उत्तरायण काल में ही सभी देवी-देवताओं की प्राण प्रतिष्ठा शुभ मानी जाती है।

मकर संक्रांति पर भगवान शिव की पूजा अर्चना भी शुभ मानी गयी है। इस दिन काले तिल मिलाकर स्नान करना और शिव मंदिर में तिल के तेल का दीपक जलाकर भगवान शिव का गंध, पुष्प, फल, आक, धतुरा, बिल्व पत्र चढ़ाना शुभफल दायक है। कहा भी गया है कि इस दिन घी और कंबल का दान मोक्ष-दायक है। इस दिन ताम्बुल का दान करना भी श्रेष्ठ माना गया है।


The six-month period (Uttarayana) during which the sun travels northwards is highly favourable to them in their march towards the goal of life. It is as though they are flowing easily with the current towards the Lord. Paramahamsa Sannyasins roam about freely during this period, dispelling gloom from the hearts of all. The Devas and Rishis rejoice at the advent of the new season, and readily come to the aid of the aspirant.

The great Bhishma, the grandfather of the Pandavas, was fatally wounded during the war of the Mahabharata, waited on his deathbed of nails for the onset of this season before finally departing from the earth-plane. Let us on this great day pay our homage to him and strive to become men of firm resolve ourselves!

The sun, symbolising wisdom, divine knowledge and spiritual light, which receded from you when you revelled in the darkness of ignorance, delusion and sensuality, now joyously turns on its northward course and moves towards you to shed its light and warmth in greater abundance, and to infuse into you more life and energy. In fact, the sun itself symbolises all that the Pongal festival stands for. The message of the sun is the message of light, the message of unity, of impartiality, of true selflessness, of the perfection of the elements of Karma Yoga. The sun shines on all equally. It is the true benefactor of all beings. Without the sun, life would perish on earth. It is extremely regular and punctual in its duties, and never claims a reward or craves for recognition. If you imbibe these virtues of the sun, what doubt is there that you will shine with equal divine lustre! He who dwells in the sun, whom the sun does not know, whose body the sun is, and by whose power the sun shines—He is the Supreme Self, the Indweller, the immortal Essence. Tat Twam Asi—“That thou art”. Realise this and be free here and now on this holy Pongal or Makara Shankranti day.

In Maharashtra and in North India, spiritual aspirants attach much importance to Makara Shankranti. It is the season chosen by the Guru for bestowing his Grace on the disciple. In the South, too, it should be noted that it was about this time that Mahadeva favoured several of the Rishis by blessing them with His beatific vision.

Servants, farmers and the poor are fed and clothed and given presents of money. On the next day, the cow, which is regarded as the symbol of the Holy Mother, is worshipped. Then there is the feeding of birds and animals. In this manner the devotee’s heart expands slowly during the course of the celebrations, first embracing with its long arms of love the entire household and neighbours, then the servants and the poor, then the cow, and then all other living creatures. Without even being aware of it, one develops the heart and expands it to such proportions that the whole universe finds a place in it.

Dattatreya Jayanti 2015 : Thu, 24 December

The four dogs of Lord Dattatreya are the embodiments of the four Vedas. They follow the Lord as "hounds of heaven, watchdogs of the ultimate Truth". They help the Lord in "hunting" and finding pure souls, wherever they may be born. Behind the Lord Dattatreya is the cow named Kamadhenu. This divine cow grants the wishes and desires of all those who seek the Lord. She grants all material and spiritual wishes of the Lord's devotees.

The Lord stands in front of the Audumbara tree. This is the celestial wish -yielding tree. It fulfills the wishes of those who prostrate before it. Audumbara is the bearer of nectar, and wherever it is found, Lord Dattatreya is always found in it's shade.

महायोगीश्वर दत्तात्रेयजी भगवान्‌ विष्णुके अवतार हैं। इनका अवतरण मार्गशीर्ष पूर्णिमाको प्रदोषकाल में हुआ था। अत: इस दिन बडे समारोहसे दत्तजयन्तीका उत्सव मनाया जाता है ।

श्रीमद्‍ भागवत्‌ महापुराण के अनुसार श्री दत्तात्रेय सती अनसूया के गर्भ से उत्पन्न हुए थे । श्री दत्तात्रेय ‘भारतीय अद्वैत साधना’ के इतिहास में अवधूत प्रवर, आदिगुरु, परमहंस के रुप में चिर प्रसिद्ध हैं। शास्त्रों के अनुसार, वे ‘अविनाशी-विग्रह’ तथा सिद्धदेह सम्पन्न हैं । गुरु परम्परा का उच्छेद होने के कारण जब सारी श्रुतियां लुप्तप्राय हो गई थीं, उस समय इन्होंने अपनी अलौकिक स्मृति-शक्ति द्वारा वैदिक धर्म की रक्षा के लिये सभी लुप्तप्राय श्रुतियों का उद्धार करने के दृष्टि से अत्रि मुनि के पुत्र के रुप में सती अनसूया देवी के गर्भ से जन्म ग्रहण किया था। ब्रह्मपुराण, हरिवंश पुराण, महाभारत एवं विष्णु धर्मोत्तर पुराण में विष्णु द्वारा दत्तात्रेय का रुप धारण करके धर्म और समाज की स्थापना करने का वर्णन मिलता है।

पुराणों के अनुसार महर्षि अत्रि के तीन पुत्र क्रमश: ब्रह्मा, विष्णु और रुद्र के अवतार थे, जिनमें सोम ब्रह्मा के, दत्त विष्णु के और दुर्वासा रुद्र के अवतार थे। उत्तरकाल के आचार्यों ने ब्रह्मा-विष्णु-रुद्र के समष्टि रुप श्री दत्तात्रेय का स्वरुप त्रिमुख एवं छ्ह हाथ वाला बतलाया है। इस स्वरुप में पीछे एक गाय और आगे चार कुत्ते रहते हैं। इस स्वरुप का वर्णन ‘गुरुचरित्र’ ग्रंथ में - सरस्वती गंगाधर ने किया है।
पुरुष का गुरु अपनी आत्मा ही है क्योंकि प्रत्यक्ष और अनुमान से अपनी आत्मा के ज्ञान से ही पुरुष का कल्याण होता है। दत्तात्रेयजी कहते हैं कि जिससे जितना-जितना गुण मिला है उनको उन गुणों को प्रदाता मानकर उन्हें अपना गुरु माना है इस प्रकार मेरे 24 गुरु हैं। पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु, आकाश, चंद्रमा, सूर्य, कपोत, अजगर, सिंधु, पतंग, भ्रमर, मधुमक्खी, गज, मृग, मीन, पिंगला, कुररपक्षी, बालक, कुमारी, सर्प, शरकृत, मकड़ी, भृंगी।
गिरनारक्षेत्र् श्री दत्तात्रेयजी का सिद्धपीठ् है। इनकी चरणपादुकाएँ वाराणसी तथा आबूपर्वत् आदि कई स्थानों पर् हैं।

श्री दत्तात्रेय की साधना (उपासना) विधि

श्री दत्तात्रेय जी की प्रतिमा,चित्र या यंत्र को लाकर लाल कपडे पर स्थापित करने के बाद चन्दन लगाकर,फ़ूल चढाकर,धूप की धूनी देकर,नैवेद्य चढाकर दीपक से आरती उतारकर पूजा की जाती है । पूजा के समय में उनके लिये पहले स्तोत्र को ध्यान से पढा जाता है,फ़िर मन्त्र का जाप किया आता है,उनकी उपासना तुरत प्रभावी हो जाती है,और शीघ्र ही साधक को उनकी उपस्थिति का आभास होने लगता है । साधकों को उनकी उपस्थिति का आभास सुगन्ध के द्वारा,दिव्य प्रकाश के द्वारा,या साक्षात उनके दर्शन से होता है,साधना के समय अचानक स्फ़ूर्ति आना भी उनकी उपस्थिति का आभास देती है। भगवान दत्तात्रेय बडे दयालो और आशुतोष है,वे कहीं भी कभी भी किसी भी भक्त को उनको पुकारने पर सहायता के लिये अपनी शक्ति को भेजते है।

साधना मन्त्र- " ॐ द्रां ह्रीं क्रो दत्तात्रेयाय् विद्‍अमहे योगीश्‍राय् धीमही । तन्‍नो दत्त: प्रचोदयात् ॥"

Annapurna Jayanti : Friday, 25 December 2015

Annapoorna Stotram: Nityananda Kari Varabhaya Kari
अन्नपूर्णा   स्तोत्रम्


नित्यानन्दकरी वराभयकरी सौन्दर्यरत्नाकरी
निर्धूताखिलघोरपावनकरी प्रत्यक्षमाहेश्वरी ।
प्रालेयाचलवंशपावनकरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी मातान्नपूर्णेश्वरी ॥१॥


नानारत्नविचित्रभूषणकरी हेमाम्बराडम्बरी
मुक्ताहारविलम्बमानविलसद्वक्षोजकुम्भान्तरी ।
काश्मीरागरुवासिताङ्गरुचिरे काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी मातान्नपूर्णेश्वरी ॥२॥


योगानन्दकरी रिपुक्षयकरी धर्मार्थनिष्ठाकरी
चन्द्रार्कानलभासमानलहरी त्रैलोक्यरक्षाकरी ।
सर्वैश्वर्यसमस्तवाञ्छितकरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी मातान्नपूर्णेश्वरी ॥३॥


कैलासाचलकन्दरालयकरी गौरी उमा शङ्करी
कौमारी निगमार्थगोचरकरी ओङ्कारबीजाक्षरी ।
मोक्षद्वारकपाटपाटनकरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी मातान्नपूर्णेश्वरी ॥४॥


दृश्यादृश्यविभूतिवाहनकरी ब्रह्माण्डभाण्डोदरी
लीलानाटकसूत्रभेदनकरी विज्ञानदीपाङ्कुरी ।
श्रीविश्वेशमनःप्रसादनकरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी मातान्नपूर्णेश्वरी ॥५॥


उर्वीसर्वजनेश्वरी भगवती मातान्नपूर्णेश्वरी
वेणीनीलसमानकुन्तलहरी नित्यान्नदानेश्वरी ।
सर्वानन्दकरी सदा शुभकरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी मातान्नपूर्णेश्वरी ॥६॥


आदिक्षान्तसमस्तवर्णनकरी शम्भोस्त्रिभावाकरी
काश्मीरात्रिजलेश्वरी त्रिलहरी नित्याङ्कुरा शर्वरी ।
कामाकाङ्क्षकरी जनोदयकरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी मातान्नपूर्णेश्वरी ॥७॥


देवी सर्वविचित्ररत्नरचिता दाक्षायणी सुन्दरी
वामं स्वादुपयोधरप्रियकरी सौभाग्यमाहेश्वरी ।
भक्ताभीष्टकरी सदा शुभकरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी मातान्नपूर्णेश्वरी ॥८॥


चन्द्रार्कानलकोटिकोटिसदृशा चन्द्रांशुबिम्बाधरी
चन्द्रार्काग्निसमानकुन्तलधरी चन्द्रार्कवर्णेश्वरी ।
मालापुस्तकपाशासाङ्कुशधरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी मातान्नपूर्णेश्वरी ॥९॥


क्षत्रत्राणकरी महाऽभयकरी माता कृपासागरी
साक्षान्मोक्षकरी सदा शिवकरी विश्वेश्वरश्रीधरी ।
दक्षाक्रन्दकरी निरामयकरी काशीपुराधीश्वरी
भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी मातान्नपूर्णेश्वरी ॥१०॥


अन्नपूर्णे सदापूर्णे शङ्करप्राणवल्लभे ।
ज्ञानवैराग्यसिद्ध्यर्थं भिक्षां देहि च पार्वति ॥११॥


माता च पार्वती देवी पिता देवो महेश्वरः ।
बान्धवाः शिवभक्ताश्च स्वदेशो भुवनत्रयम् ॥१२॥

Meaning ( Annapurna Stotram ):

Oh! Mother Annapurna! renderer of the support of compassion, the bestower of eternal happiness, the donor of gifts and protection, the ocean of beauty, the destroyer of all sins and purifier, the great goddess, the purifier of the family of Himavan, and the great deity of Kasi, (thou) grant us alms.

Oh! Mother Annapurna! renderer of the support of compassion, one who is adorned with ornaments made up of different kinds of gems, wearer of golden-laced dress, the space, in between whose breasts shines with the pendant garland of pearls, the beautiful - bodied, rendered and the presiding deity of Kasi, (thou) grant us alms.

Oh! Mother Annapurna! the renderer of the support of compassion, the giver of happiness obtainable through yoga, the destroyer of the enemies, the cause of (men) getting deep-rooted in righteousness, the possessor of the waves of splendour of the three worlds, the donors of all riches, the bestower of the fruits of penance, and the presiding deity of Kasi, (thou) grant us alms.

Oh! Mother Annapurna! the renderer of the support of compassion, the resident of the caves of the Kailasa mountains, golden-complexioned, Oh! Uma! the consort of Sankara, endowed always with maidenhood, the cause of our comprehension of the purport of the Vedas, whose basic syllable is the syllable `Om', the opener of the doors of emancipation and the presiding deity of Kasi, (thou) grant us alms.

Oh! Mother Annapurna! the renderer of the support of compassion, the conveyor of the visible and invisible prosperity, the container of the primordial egg, the directress of the sportive drama (of the world), the flame of the lamp of true knowledge, the source of the mental happiness of Sri Visvanatha, and the presiding deity of Kasi, (thou) grant us alms.

Oh! Mother Annapurna! the renderer of the support of compassion, the maker of the letters 'a' (‚) to 'ksha' (®¸), he cause of the three acts of Sambhu, namely, the creation, protection and destruction, the wearer of saffron, the consort of the destroyer of the three cities, the consort of the three-eyed lord, the governess of universe, the form of the goddess of night, the opener of the gates of heavens, and the presiding deity of Kasi, (thou) grant us alms.

Oh! Mother Annapurna! the renderer of the support of compassion, the form of the earth, the governess of all men, the cause of victory, the mother, the ocean of compassion, the possessor of beautiful and dark braid of hari resembling the flower of the indigo plant, the giver of food daily, the direct bestower of emancipation and eternal welfare, and the presiding deity of Kasi, (thou) grant us alms.

Oh! Mother Annapurna! the renderer of the support of compassion, Oh! Goddess! adorned with different kinds of gems, the daughter of Daksha, the most beautiful, bearer of benign breasts, doer of good to all, endowed with good fortune, fulfiller of the desires of the devotees, doer of auspicious acts, and the presiding deity of Kasi, (thou) grant us alms.

Oh! Mother Annapurna! the renderer of the support of compassion, one who resembles crores and crores of suns, moons and fires, endowed with lips resembling the red pearl and the bimba fruit, bearer of ear-ornament resembling the moon, sun and fire (in radiance), having a complexion of the goad, and the presiding deity of Kasi, (thou) grant us alms.

Oh! Mother Annapurna! the renderer of the support of compassion, the protector of the dominion remover of great fear, the mother, the ocean of compassion, the cause of the happiness of all, the eternal doer of good, the consort of Visvesvara, the form of Lakshmi, the destroyer of the sacrifice of Daksha, one who makes us free from diseases, and the presiding deity of Kasi, (thou) grant us alms.

Oh! Parvati! Annapurna! always full, the dear consort of Sankara, grant us alms for the sake of securing knowledge and detachment.

Goddess Parvati is my Mother, Lord Mahesvara is my Father, the devotees of Lord Siva are my relatives; and the three worlds are my own country.

Lord Kaal Bhairava is an fierce incarnation of Lord Shiva. The term Bhairava means "Terrific". He is often depicted with frowning, angry eyes and sharp, tiger's teeth and flaming hair, stark naked except for garlands of skulls and a coiled snake about his neck. In his four hands he carries a noose, trident, drum, and skull. He is often shown accompanied by a dog. Lord bhairav's worship is very useful to win over your enemies, success and all materialistic comforts. It is very easy to please lord Bhairav by doing normal worship daily. Lord Bhairav guard the Lord Shiva temple, due to which He is called "Kotwal" also. Batuk Bharav is the most worshipped form of Bhairav in tantra.

कालभैरव अष्टमी 
Kaal Bhairava Ashtami
Thursday, 3 December 2015

भय का हरण करे, वह भैरव - भयहरणं च भैरव:।

Lord Bhairav protects, removes all obstacles, cleans the soul with his sheer intensity and makes things favourable for a sadhak. He is one of the most feared deities, but actually, he is one of the most rewarding.The vahana (vehicle) of Lord Bhairava is the dog. Dogs (particularly black dogs) were often considered the most appropriate form of sacrifice to Bhairava, and he is sometimes shown as holding a severed human head, with a dog waiting at one side, in order to catch the blood from the head. Feeding and taking care of dogs is another way of showing our devotion to Lord Bhairava.

Once Brahma insulted Lord Shiva and his fifth head teasingly laughed at Lord Shiva. From Lord Shiva came out the Kalabhairava (Black Bhairava) who tore off the fifth head of Lord Brahma. On the entreaties of Lord Vishnu, Shiva pardoned Lord Brahma. But the sin (in the form of a lady) of beheading Lord Brahma followed Kalabhairava everywhere. Also the head of Brahma stuck to him. To keep away the sin and punishment which were chasing him, Kalabhairava entered the city of Benaras ( now Varanasi ). The sin could not enter the city. Kalabhairava was made as the Kotwal (Inspector) of the city of Varanasi. Bhairava rides on a dog. A pilgrimage to Kasi (Benares) is not supposed to be complete without visiting the temple of Kalabhairava.

Lord Bhairava is also known as Kshetrapalaka, the guardian of the temple. In honor of this, keys to the temple are ceremonially submitted to Lord Bhairava at temple closing time and are received from him at opening time. Lord Bhairava is also the guardian of travellers.

There's a shrine for Lord Kaal Bhairava in most Shiva temples. The Bhairava shrine in the Arunachala temple is very special. The Kaal Bhairava temple in Kashi (Varanasi) & Ujjain is a must see for Bhairava devotees.
Bhairva Chalisa
भैरव चालीसा

॥ दोहा ॥

श्री गणपति, गुरु गौरि पद, प्रेम सहित धरि माथ ।
चालीसा वन्दन करों, श्री शिव भैरवनाथ ॥
श्री भैरव संकट हरण, मंगल करण कृपाल ।
श्याम वरण विकराल वपु, लोचन लाल विशाल ॥

जय जय श्री काली के लाला । जयति जयति काशी-कुतवाला ॥

जयति बटुक भैरव जय हारी । जयति काल भैरव बलकारी ॥

जयति सर्व भैरव विख्याता । जयति नाथ भैरव सुखदाता ॥

भैरव रुप कियो शिव धारण । भव के भार उतारण कारण ॥

भैरव रव सुन है भय दूरी । सब विधि होय कामना पूरी ॥

शेष महेश आदि गुण गायो । काशी-कोतवाल कहलायो ॥

जटाजूट सिर चन्द्र विराजत । बाला, मुकुट, बिजायठ साजत ॥

कटि करधनी घुंघरु बाजत । दर्शन करत सकल भय भाजत ॥

जीवन दान दास को दीन्हो । कीन्हो कृपा नाथ तब चीन्हो ॥

वसि रसना बनि सारद-काली । दीन्यो वर राख्यो मम लाली ॥

धन्य धन्य भैरव भय भंजन । जय मनरंजन खल दल भंजन ॥

कर त्रिशूल डमरु शुचि कोड़ा । कृपा कटाक्ष सुयश नहिं थोड़ा ॥

जो भैरव निर्भय गुण गावत । अष्टसिद्घि नवनिधि फल पावत ॥

रुप विशाल कठिन दुख मोचन । क्रोध कराल लाल दुहुं लोचन ॥

अगणित भूत प्रेत संग डोलत । बं बं बं शिव बं बं बोतल ॥

रुद्रकाय काली के लाला । महा कालहू के हो काला ॥

बटुक नाथ हो काल गंभीरा । श्वेत, रक्त अरु श्याम शरीरा ॥

करत तीनहू रुप प्रकाशा । भरत सुभक्तन कहं शुभ आशा ॥

रत्न जड़ित कंचन सिंहासन । व्याघ्र चर्म शुचि नर्म सु‌आनन ॥

तुमहि जा‌ई काशिहिं जन ध्यावहिं । विश्वनाथ कहं दर्शन पावहिं ॥

जय प्रभु संहारक सुनन्द जय । जय उन्नत हर उमानन्द जय ॥

भीम त्रिलोकन स्वान साथ जय । बैजनाथ श्री जगतनाथ जय ॥

महाभीम भीषण शरीर जय । रुद्र त्र्यम्बक धीर वीर जय ॥

अश्वनाथ जय प्रेतनाथ जय । श्वानारुढ़ सयचन्द्र नाथ जय ॥

निमिष दिगम्बर चक्रनाथ जय । गहत अनाथन नाथ हाथ जय ॥

त्रेशलेश भूतेश चन्द्र जय । क्रोध वत्स अमरेश नन्द जय ॥

श्री वामन नकुलेश चण्ड जय । कृत्या‌ऊ कीरति प्रचण्ड जय ॥

रुद्र बटुक क्रोधेश काल धर । चक्र तुण्ड दश पाणिव्याल धर ॥

करि मद पान शम्भु गुणगावत । चौंसठ योगिन संग नचावत ।

करत कृपा जन पर बहु ढंगा । काशी कोतवाल अड़बंगा ॥

देयं काल भैरव जब सोटा । नसै पाप मोटा से मोटा ॥

जाकर निर्मल होय शरीरा। मिटै सकल संकट भव पीरा ॥

श्री भैरव भूतों के राजा । बाधा हरत करत शुभ काजा ॥

ऐलादी के दुःख निवारयो । सदा कृपा करि काज सम्हारयो ॥

सुन्दरदास सहित अनुरागा । श्री दुर्वासा निकट प्रयागा ॥

श्री भैरव जी की जय लेख्यो । सकल कामना पूरण देख्यो ॥

॥ दोहा ॥

जय जय जय भैरव बटुक, स्वामी संकट टार ।


कृपा दास पर कीजिये, शंकर के अवतार ॥


जो यह चालीसा पढ़े, प्रेम सहित सत बार ।


उस घर सर्वानन्द हों, वैभव बड़े अपार ॥

***


Aarti Shri Bhairavji Ki
आरती श्री भैरव जी की


जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा ।

जय काली और गौरा देवी कृत सेवा ॥ जय ॥

तुम्हीं पाप उद्घारक दुःख सिन्धु तारक ।

भक्तों के सुख कारक भीषण वपु धारक ॥ जय ॥

वाहन श्वान विराजत कर त्रिशूल धारी ।

महिमा अमित तुम्हारी जय जय भयहारी ॥ जय ॥

तुम बिन देवा सेवा सफल नहीं होवे ।

चौमुख दीपक दर्शन दुःख खोवे ॥ जय ॥

तेल चटकि दधि मिश्रित भाषावलि तेरी ।

कृपा करिये भैरव करि‌ए नहीं देरी ॥ जय ॥

पांव घुंघरु बाजत अरु डमरु जमकावत ।

बटुकनाथ बन बालकजन मन हरषावत ॥ जय ॥

बटकुनाथ की आरती जो को‌ई नर गावे ।

कहे धरणीधर नर मनवांछित फल पावे ॥ जय ॥

|| Jai Bhairava Baba ||

Ganga Mahaotsav is a 5-day festival, held on the banks of Ganga in Varanasi, is celebrated every year from Prabodhani Ekadashi to Kartik Purnima (This year from 22 Nov 2015 to 25 Nov 2015*). The festival celebrates the rich cultural heritage of Varanasi.

The event also coincides with Dev Deepawali the festival of lights at Varanasi. On Dev Deepavali (full moon day) it is said that God descends from heaven to bathe in the Ganga. On this occasion amidst chanting of Vedic hymns people light diyas (earthen lamps) and burst firecrackers in welcome.


* Kartik Purnima - Dev Deepavali Wed, 25 November 2015

Tulsi Vivah : 23 November 2015

कार्तिक मास के शुक्लपक्ष की एकादशी को तुलसी विवाह का उत्सव मनाया जाता है। तुलसी के पौधे को पवित्र और पूजनीय माना गया है। तुलसी की नियमित पूजा से हमें सुख-समृद्धि की प्रााुप्त होती है। कार्तिक शुक्ल एकादशी पर तुलसी विवाह का विधिवत पूजन करने से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

तुलसी विवाह कथा

पुराण की कथा के अनुसार— कालांतर में तुलसी देवी भगवान गणेश के शापवश असुर शंखचूड की पत्नी बनीं। जब असुर शंखचूड का आतंक फैलने लगा तो भगवान श्री हरि ने वैष्णवी माया फैलाकर शंखचूड से कवच ले लिया और उसका वध कर दिया। तत्पश्चात् भगवान श्री हरि शंखचूड का रूप धारण कर साध्वी तुलसी के घर पहुंचे, वहां उन्होंने शंखचूड समान प्रदर्शन किया। तुलसी ने पति को युद्ध में आया देख उत्सव मनाया और उनका सहर्ष स्वागत किया।

उस समय तुलसी के साथ उन्होंने सुचारू रूप से हास-विलास किया तथापि तुलसी को इस बार पहले की अपेक्षा आकर्षण में व्यतिक्रम का अनुभव हुआ। अत: उसे वास्तविकता का अनुमान हो गया। तब तुलसी देवी ने पूछा—मायेश! आप कौन हैं, आपने मेरा सतीत्व नष्ट कर दिया, इसलिए अब मैं आप को शाप दे रही हूं। तुलसी के वचन सुनकर शाप के भय से भगवान श्री हरि ने अपना लीलापूर्वक अपना सुन्दर मनोहर स्वरूप प्रकट किया। उन्हें देखकर पति के निधन का अनुमान करके कामिनी तुलसी मूर्छित हो गई।  फिर चेतना प्राप्त होने पर उसने कहा—नाथ आपका ह्वदय पाषाण के सदृश है, इसलिए आप में तनिक भी दया नहीं है। आज आपने छलपूर्वक धर्म नष्ट करके मेरे स्वामी को मार डाला। अत: देव! मेरे शाप से अब पाषाण रूप होकर आप पृथ्वी पर रहें।

इस प्रकार शोक संतृप्त तुलसी विलाप करने लगी। तब भगवान श्री हरि ने कहा—भद्रे। तुम मेरे लिए बहुत दिनों तक तपस्या कर चुकी हो। अब तुम दिव्य देह धारण कर मेरे साथ सानन्द रहो। मैं तुम्हारे शाप को सत्य करने के लिए में पाषाण (शालिग्राम) बनकर रहूंगा और तुम एक पूजनीय तुलसी के पौधे के रूप में पृथ्वी पर रहोगी।

गण्डकी नदी के तट पर मेरा वास होगा। बिना तुम्हारे मेरी पूजा नहीं हो सकेगी। तुम्हारे पत्रों और मंजरियों में मेरी पूजा होगी। जो भी बिना तुम्हारे मेरी पूजा करेगा वह नरक का भागी होगा। इस प्रकार शालिग्राम जी का उद्भव पृथ्वी पर हुआ। अत: तुलसी-शालिग्राम का विवाह पौराणिक आख्यानों पर आधारित है।

तुलसी विवाह की पूजन विधि

तुलसी विवाह के लिए तुलसी के पौधे का गमले को गेरु आदि से सजाकर उसके चारों ओर ईख (गन्ने) का मंडप बनाकर उसके ऊपर ओढ़नी या सुहाग की प्रतीक चुनरी ओढ़ाते हैं। गमले को साड़ी में लपेटकर तुलसी को चूड़ी पहनाकर उनका शृंगार करते हैं। श्री गणेश सहित सभी देवी-देवताओं का तथा श्री शालिग्रामजी का विधिवत पूजन करें। पूजन के करते समय तुलसी मंत्र "तुलस्यै नम:" अथवा "हरिप्रियार्ये नम:" का जप करें। इसके बाद एक नारियल दक्षिणा के साथ टीका के रूप में रखें। भगवान शालिग्राम की मूर्तिका सिहासन हाथ में लेकर तुलसीजी की सात परिक्रमा कराएं। आरती के पश्चात विवाहोत्सव पूर्ण किया जाता है।
जैसे विवाह में जो सभी रीति-रिवाज होते हैं उसी तरह तुलसी विवाह के सभी कार्य किए जाते हैं। विवाह से संबंधित मंगल गीत भी गाए जाते हैं।

सबके लिए आनंदायिनी होने के कारण तुलसीजी "नंदिनी" भी कहलाती है।

तुलसीनामाष्टक का जप करें

अश्वमेघ यज्ञ से प्राप्त पुण्य कई जन्मों तक फल देने वाला होता है। यही पुण्य तुलसी नामाष्टक के नियमित पाठ से मिलता है। तुलसी नामाष्टक का पाठ पूरे विधि-विधान से किया जाना चाहिए।

तुलसी नामाष्टक :--

वृन्दा वृन्दावनी विश्वपूजिता विश्वपावनी। 
पुष्पसारा नन्दनीच तुलसी कृष्ण जीवनी।।
एतभामांष्टक चैव स्रोतं नामर्थं संयुतम। 
य: पठेत तां च सम्पूज् सौऽश्रमेघ फलंलमेता।।

***
श्री तुलसी जी की आरती 

जय जय तुलसी माता
सब जग की सुख दाता, वर दाता
जय जय तुलसी माता ।।
सब योगों के ऊपर, सब रोगों के ऊपर
रुज से रक्षा करके भव त्राता
जय जय तुलसी माता।।
बटु पुत्री हे श्यामा, सुर बल्ली हे ग्राम्या
विष्णु प्रिये जो तुमको सेवे, सो नर तर जाता
जय जय तुलसी माता ।।
हरि के शीश विराजत, त्रिभुवन से हो वन्दित
पतित जनो की तारिणी विख्याता
जय जय तुलसी माता ।।
लेकर जन्म विजन में, आई दिव्य भवन में
मानवलोक तुम्ही से सुख संपति पाता
जय जय तुलसी माता ।।
हरि को तुम अति प्यारी, श्यामवरण तुम्हारी
प्रेम अजब हैं उनका तुमसे कैसा नाता
जय जय तुलसी माता ।।

Tulsi Vivah on Mon, 23 November 2015

कार्तिक (Kartik) शुक्ल एकादशी को शालिग्राम और तुलसी का विवाह रचाया जाता है। मान्यता है कि कार्तिक मास में जो व्यक्ति तुलसी का विवाह भगवान विष्णु से रचाता है उसके पिछले जन्मों का पाप नष्ट हो जाता है।

Dev Prabodhini Ekadashi Vrat: Sun, 22 November 2015

Bhisma Panchak Starting 21 NOV 2015 to 25 NOV 2015

यह व्रत कार्तिक शुक्ल एकादशी से प्रारंभ होकर पूर्णिमा तक चलता है। कहा जाता है कि महाभारत (Mahabharata) काल में जब देवव्रत भीष्म सूर्य के उत्रायण (Uttarayana - from Makar Sankranti) होने की प्रतिक्छा में शर शय्या पर थे तो उनही पांच दिनों के दौरान उन्होने पांडवों को राज धर्म, वर्ण धर्म, मोक्छ धर्म आदि पर उपदेश दिया था। श्री कृष्ण ने उनकी स्मृति में भीष्म पंचक व्रत की आयोजना की।

Baikuntha Chaturdashi Vrat on Tue, 24 Nov 2015

भगवान शिव और विष्णु की पूजा करनी चाहिये

कार्तिक (Kartika) मास के शुक्ल पक्छ की चतुर्दशी को यह व्रत किया जाता है। ऐसी मान्यता है की निःसंतान लोग यदि रात्रि के समय किसी नदी या तीर्थ में पूरी रात्रि तक खडे होकर हाथों में दीपक जलाएं तो संतान की प्राप्ति होती है।

Kartika Purnima on Wed, 25 November 2015

कार्तिक पूर्णिमा पवित्र पुनीत पर्व है। इसमें किये गये यग्य, दान, स्नान, साधना का फल असीम होता है। उस दिन यदि कृतिका हो तो महाकार्तिकी होती है। इसी दिन सायंकाल के समय मतस्यावतार हुआ था। अत: इस दिन किये गये दान का फल दस यग्यों के फल के बराबर है। इस दिन हरिद्वार, काशी (Varanasi), प्रयाग (Allahabad), पुष्कर आदि पुण्य तिर्थों में श्रध्दापूर्वक स्नान, दान करने से महा पुण्य फल की प्राप्ति होती है।

Tulsi Ashtotar Naamvali


।। तुलसी अष्टोत्तरशत नामावलिः ।।

ॐ श्री तुलस्यै नमः | ॐ नन्दिन्यै नमः । ॐ देव्यै नमः । ॐ शिखिन्यै नमः । ॐ धारिण्यै नमः । ॐ धात्र्यै नमः । ॐ सावित्र्यै नमः । ॐ सत्यसन्धायै नमः । ॐ कालहारिण्यै नमः । ॐ गौर्यै नमः । ॐ देवगीतायै नमः । ॐ द्रवीयस्यै नमः । ॐ पद्मिन्यै नमः । ॐ सीतायै नमः । ॐ रुक्मिण्यै नमः । ॐ प्रियभूषणायै नमः । ॐ श्रेयस्यै नमः । ॐ श्रीमत्यै नमः । ॐ मान्यायै नमः । ॐ गौर्यै नमः । ॐ गौतमार्चितायै नमः । ॐ त्रेतायै नमः । ॐ त्रिपथगायै नमः । ॐ त्रिपादायै नमः । ॐ त्रैमूर्त्यै नमः । ॐ जगत्रयायै नमः । ॐ त्रासिन्यै नमः । ॐ गात्रायै नमः । ॐ गात्रियायै नमः । ॐ गर्भवारिण्यै नमः । ॐ शोभनायै नमः । ॐ समायै नमः । ॐ द्विरदायै नमः । ॐ आराद्यै नमः । ॐ यज्ञविद्यायै नमः । ॐ महाविद्यायै नमः । ॐ गुह्यविद्यायै नमः । ॐ कामाक्ष्यै नमः । ॐ कुलायै नमः । ॐ श्रीयै नमः । ॐ भूम्यै नमः । ॐ भवित्र्यै नमः । ॐ सावित्र्यै नमः । ॐ सरवेदविदाम्वरायै नमः । ॐ शंखिन्यै नमः । ॐ चक्रिण्यै नमः । ॐ चारिण्यै नमः । ॐ चपलेक्षणायै नमः । ॐ पीताम्बरायै नमः । ॐ प्रोत सोमायै नमः । ॐ सौरसायै नमः । ॐ अक्षिण्यै नमः । ॐ अम्बायै नमः । ॐ सरस्वत्यै नमः । ॐ सम्श्रयायै नमः । ॐ सर्व देवत्यै नमः । ॐ विश्वाश्रयायै नमः । ॐ सुगन्धिन्यै नमः । ॐ सुवासनायै नमः । ॐ वरदायै नमः । ॐ सुश्रोण्यै नमः । ॐ चन्द्रभागायै नमः । ॐ यमुनाप्रियायै नमः । ॐ कावेर्यै नमः । ॐ मणिकर्णिकायै नमः । ॐ अर्चिन्यै नमः । ॐ स्थायिन्यै नमः । ॐ दानप्रदायै नमः । ॐ धनवत्यै नमः । ॐ सोच्यमानसायै नमः । ॐ शुचिन्यै नमः । ॐ श्रेयस्यै नमः । ॐ प्रीतिचिन्तेक्षण्यै नमः । ॐ विभूत्यै नमः । ॐ आकृत्यै नमः । ॐ आविर्भूत्यै नमः । ॐ प्रभाविन्यै नमः । ॐ गन्धिन्यै नमः । ॐ स्वर्गिन्यै नमः । ॐ गदायै नमः । ॐ वेद्यायै नमः । ॐ प्रभायै नमः । ॐ सारस्यै नमः । ॐ सरसिवासायै नमः । ॐ सरस्वत्यै नमः । ॐ शरावत्यै नमः । ॐ रसिन्यै नमः । ॐ काळिन्यै नमः । ॐ श्रेयोवत्यै नमः । ॐ यामायै नमः । ॐ ब्रह्मप्रियायै नमः । ॐ श्यामसुन्दरायै नमः । ॐ रत्नरूपिण्यै नमः । ॐ शमनिधिन्यै नमः । ॐ शतानन्दायै नमः । ॐ शतद्युतये नमः । ॐ शितिकण्ठायै नमः । ॐ प्रयायै नमः । ॐ धात्र्यै नमः । ॐ श्री वृन्दावन्यै नमः । ॐ कृष्णायै नमः । ॐ भक्तवत्सलायै नमः । ॐ गोपिकाक्रीडायै नमः । ॐ हरायै नमः । ॐ अमृतरूपिण्यै नमः । ॐ भूम्यै नमः । ॐ श्री कृष्णकान्तायै नमः । ॐ श्री तुलस्यै नमः ।।
छठ पूजा - सूर्य षष्ठी

Chhath Puja (Chhathi Maiya Pujan)
Surya Shashthi Vrat : Tue, 17 November 2015

कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की षष्ठी को सूर्य षष्ठी का व्रत करने का विधान है । इसे करने वाली स्त्रियाँ धन-धान्य, पति-पुत्र तथा सुख-समृद्धि से परिपूर्ण रहती हैं। यह व्रत बडे नियम तथा निष्ठा से किया जाता है। इसमे तीन दिन के कठोर उपवास का विधान है । इस व्रत को करने वाली स्त्रियों को पंचमी को एक बार नमक रहित भोजन करना पडता है। षष्ठी को निर्जल रहकर व्रत करना पडता है । षष्ठी को अस्त होते हुए सूर्य को विधिपूर्वक पूजा करके अर्घ्य देते हैं। सप्तमी के दिन प्रात:काल नदी या तालाब पर जाकर स्नान करती हैं। सूर्योदय होते ही अर्घ्य देकर जल ग्रहण करके व्रत को खोलती हैं।

Women & Offerings


सूर्यषष्ठी-व्रतके अवसरपर सायंकालीन प्रथम अर्घ्यसे पूर्व मिट्टीकी प्रतिमा बनाकर षष्ठीदेवीका आवाहन एवं पूजन करते हैं। पुनः प्रातः अर्घ्यके पूर्व षष्ठीदेवीका पूजन कर विसर्जन कर देते हैं। मान्यता है कि पंचमीके सायंकालसे ही घरमें भगवती षष्ठीका आगमन हो जाता है। इस प्रकार भगवान्‌ सूर्यके इस पावन व्रतमें शक्ति और ब्रह्म दोनोंकी उपासनाका फल एक साथ प्राप्त होता है । इसीलिये लोकमें यह पर्व ‘सूर्यषष्ठी’ के नामसे विख्यात है।

सूर्यषष्ठी-व्रतके प्रसादमें ऋतु-फलके अतिरिक्त आटे और गुडसे शुद्ध घीमें बने ‘ठेकुआ’ का होना अनिवार्य है; ठेकुआपर लकडीके साँचेसे सूर्यभगवान्‌के रथका चक्र भी अंकित करना आवश्यक माना जाता है। इस व्रत का प्रसाद माँगकर खानेका विधान है।
Bhai Dooj, Yam Dwitiya
Friday, 13 November 2015
Bhai Duj Tika Muhurta
13:09 to 15:16

Bhaiya Dooj (भय्या दूज), comes once a year after diwali on second day of bright fortnight of kartik (this year Fri, 13 Nov 2015). The sister applies the tikka on the brother’s forehead. The Puja is usually performed in the mother’s house before the brothers leave for work or study.

Bhai Duj is also called 'Yama Dwiteeya' as it's believed that on this day, Yamaraj, the Lord of Death and the Custodian of Hell, visits his sister Goddess Yamuna, who puts the auspicious mark on his forehead and prays for his well being. So it's held that anyone who receives a Tilak from his sister on this day would never be hurled into hell.

According to one legend, on this day, Lord Krishna, after slaying the Narakasura demon, goes to his sister Subhadra who welcomes Him the lamp, flowers and sweets, and puts the holy protective spot on her brother's forehead.

Bhaiya Dooj is a day dedicated to sisters. We have heard about Raksha Bandhan (brothers day). Well this is sister’s day, that anyone who receives tilak from his sister on this day will never be thrown.

प्रस्तुत वर्ष दीपावली का पर्व Wed, 11 November 2015 की अमावस एवं स्वाति नक्षत्र योग मे होगा। दीपावली मे अमावस तिथि, प्रदोष, निशीथ एवं महानीशीथ काल तथा तुला का सुर्य वा तुला का चंद्रमा विशेष महत्वपूर्ण माने जाते हैं।

Diwali (Laxmi Puja) Muhurta 2015

प्रदोष काल - अपने नगर के सुर्यास्त से लेकर 2 घन्टे 40 मिनट तक का समय | अर्थात Delhi (India) मे प्रदोष काल सांय सुर्य अस्त 5 बजकर 25 मिनट से शुरू होकर रात 8 बजकर 05 मिनट तक रहेगा।

Delhi मे स्थिर लग्न (वृष) की व्याप्ति रात्रि 17:43 से 19:38 बजे तक रहेगी। अतेव सांय 17:43 बजे से रात 19:38 तक का प्रदोष काल विशेष रूप से श्री गणेश, श्री महालक्ष्मी पूजन, कुबेर पूजन, बसना अर्थात Accounts Books बही खातो का पूजन, दीपदान, अपने आश्रितों को Sweets, Gifts आदि बांटना तथा धर्मस्थलो पर दानादि करना कल्याणकारी होगा।

निशीथ काल (Nisheetha Kaal) में श्री महालक्ष्मी पूजन, नवग्रह पूजन, स्तोत्र, काम्य मन्तरों के जपानुष्ठान तथा ब्रह्मणो को यथा शक्ति वस्तर (cloth), फल, अनाज धन आदि का दान करना शुभ होता है।

Mahanisheetha Kaal : 23.38 to 24:31+ (Midnignt)

दीपावली पूजन महानिशीथकाल में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है, जिसमें पूजन शास्तरोक्त विधि अनुसार करना अनिवार्य है। महानिशीथकाल में मुख्यतः तांत्रिक , ज्योतिषविद, वेद्पाठी, विद्वान, ब्राह्मण, अघोरी, विधिवत, यंत्र मंत्र तंत्र द्वारा, विभिन्न शक्तियों का पूजन करते हैं एवं उनका आवाहान करते हैं।

सिंह लग्न : 24:13+ to 26:30+

Chaughadia Muhurat for Businesses (India)



LAXMI PUJA DATE FOR USA, CANADA
Tue, 10 November 2015

1. इस वर्ष अमावस, प्रदोष काल एवं वृष लग्न का विशेष महत्व रहेगा तथा यथासंभव इस काल में पूजन प्रारंभ कर लेना चाहिए |
2. निशीथ काल में श्रीसूक्त, कनकधारा स्तोत्र एवं लक्ष्मी स्तोत्र आदि मंत्रो का जपानुष्ठान करें |
3. महानिशीथ काल में तंत्र-मंत्र-यन्त्र एवं याज्ञिक क्रिया का संपादन करें |

P.S: Time is believed to be correct.

दीपावली पूजन के पश्चात गृह में एक चौमुखा दीपक रात भर जलता रहना लक्ष्मी एवं सौभाग्य में वृध्दि का प्रतीक माना जाता है।

|| Happy Diwali ||

श्रीमहालक्ष्मी पूजन एवं दीपावली का महापर्व कार्तिक कृष्ण अमावस में प्रदोष काल एवं अर्धरात्रि व्यापिनि हो, तो विशेष रुप से शुभ होती है ।

लक्ष्मी पूजन, दीपदानादि के लिये प्रदोषकाल ही विशेषतया प्रश्स्त माना गया है-
कार्तिके प्रदोषे तु विशेषेण अमावस्या निशावर्धके ।
तस्यां सम्पूज्येत्‌ देवीं भोगमोक्षं प्रदायिनीम ॥ (भविष्य पुराण)

अपने नगर के सूर्यास्त के समय से २.२४ मिनट तक का समय प्रदोष काल कहलाता है। अगर सूर्यास्त ६ बजे का है तो प्रदोष काल ८.२४ तक का होगा । कहीं कहीं ८-१२ मिनट का अन्तर आ सकता है, उसके लिये उचित होगा आप प्रदोष काल में १५ मिनट अन्तर रखें। जैसे ६ बजे को ६.१५ माने ८.२४ को ८.०९ ।
लो !! निकल आया लक्ष्मी पूजा मुहूर्त ।

Laxmi - Dipmala Pujan 2015 : Wed, 11 November

Pradosh Kal: 17:25 to 20:05 (Delhi,India) 

स्थिर लग्न प्रदोष काल के साथ हो तो अति शुभ होगा । 
भारत में वृष लग्न प्रदोष काल बेला में उपस्थित है ।
दिल्ली में 17:43 से 19:37 तक वृष लग्न होगा ।

Shubh Chaughadia
18:56 से 20:34 मिं तक रात्रि की शुभ चोघडिया भी रहेंगी।


Most Auspicious for Deepotsav & Maha Lakshmi Pujan
17:43 to 19:37

Auspicious for Yantra-Tantra-Mantra Sadhana
23:38 to 24:31+
सिंह लग्न : 24:13+ to 26:30+ (i.e midnight) 

व्यापारिक प्रतिष्ठानों में लक्ष्मी पूजा के लिए उत्तम समय |
Laabh Ki Chaughadia (दिन) : 06:15 TO 07:38
Laabh Ki Chaughadia (दिन) : 15:56 TO 17:19 
Shubh Chaughadia (दिन ) : 10:24 to 11:46
Amrit Chaughadia (दिन ) : 07:38 to 09:01

कर्ज में डूबे अथवा घाटे में चल रहे व्यापारी कुम्भ लग्न में लक्ष्मी पूजन करें तो लाभ होगा ।



DIWALI PUJAN DATE USA, CANADA & SOUTH AMERICA: TUE, 10 NOVEMBER 2015

देव-मंदिर दर्शन, दीपावली बधाईयां, भेंट, स्नान, दान आदि कार्य आप अमावस्या तिथि में करें ।