Type something and hit enter

Facebook Like Lightbox



Tulsi Vivah on  Tue, 31 October 2017

कार्तिक शुक्ल एकादशी को शालिग्राम और तुलसी का विवाह रचाया जाता है। मान्यता है कि कार्तिक मास में जो व्यक्ति तुलसी का विवाह भगवान विष्णु से रचाता है उसके पिछले जन्मों का पाप नष्ट हो जाता है।

Dev Prabodhini Ekadashi Vrat: Tue, 31 October 2017

Bhisma Panchak Starting 31 October 2017 to 4 November 2017

यह व्रत कार्तिक शुक्ल एकादशी से प्रारंभ होकर पूर्णिमा तक चलता है। कहा जाता है कि महाभारत काल में जब देवव्रत भीष्म सूर्य के उत्रायण होने की प्रतिक्छा में शर शय्या पर थे तो उनही पांच दिनों के दौरान उन्होने पांडवों को राज धर्म, वर्ण धर्म, मोक्छ धर्म आदि पर उपदेश दिया था। श्री कृष्ण ने उनकी स्मृति में भीष्म पंचक व्रत की आयोजना की।

Baikuntha Chaturdashi Vrat on Thu, 2 November 2017

भगवान शिव और विष्णु की पूजा करनी चाहिये

कार्तिक मास के शुक्ल पक्छ की चतुर्दशी को यह व्रत किया जाता है। ऐसी मान्यता है की निःसंतान लोग यदि रात्रि के समय किसी नदी या तीर्थ में पूरी रात्रि तक खडे होकर हाथों में दीपक जलाएं तो संतान की प्राप्ति होती है।

Dev Deepavali : Fri, 3 November 2017

Kartika Purnima : Sat, 4 November 2017

कार्तिक पूर्णिमा पवित्र पुनीत पर्व है। इसमें किये गये यग्य, दान, स्नान, साधना का फल असीम होता है। उस दिन यदि कृतिका हो तो महाकार्तिकी होती है। इसी दिन सायंकाल के समय मतस्यावतार हुआ था। अत: इस दिन किये गये दान का फल दस यग्यों के फल के बराबर है। इस दिन हरिद्वार, काशी (Varanasi), प्रयाग (Allahabad), पुष्कर आदि पुण्य तिर्थों में श्रध्दापूर्वक स्नान, दान करने से महा पुण्य फल की प्राप्ति होती है।

Click to comment